क्यों रेणुका सिंह बन सकती हैं छत्तीसगढ़ की मुख्यमंत्री, जानें वजह?

छत्तीसगढ़ के नए सीएम: माना जा रहा है कि बीजेपी आलाकमान किसी आदिवासी महिला को मुख्यमंत्री बनाकर 2024 के लिए आदिवासी सीटों पर निशाना साधना चाहती है.
क्यों रेणुका सिंह बन सकती हैं छत्तीसगढ़ की मुख्यमंत्री, जानें वजह?

अनुसूचित जनजाति सूची में 12 आदिवासी समुदायों को शामिल करने से भाजपा में आदिवासियों के विश्वास पर काफी असर पड़ा है। यह लंबे समय से लंबित था। श्रीमती रेणुका सिंह ने किरेन रिजेजू और अर्जुन मुंडा के साथ आदिवासियों को लंबे समय से प्रतीक्षित न्याय दिलाने की पूरी कोशिश की।

छत्तीसगढ़ के नए सीएम: माना जा रहा है कि बीजेपी आलाकमान किसी आदिवासी महिला को मुख्यमंत्री बनाकर 2024 के लिए आदिवासी सीटों पर निशाना साधना चाहती है. रेणुका सिंह को सीएम पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है, क्योंकि वह पीएम की टीम की मजबूत सदस्य मानी जाती हैं.

छत्तीसगढ़ के नए सीएम: बीजेपी को तीन राज्यों में पूर्ण बहुमत मिल गया है. जल्द ही तीनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों की घोषणा की जाएगी. चर्चा है कि बीजेपी किसी आदिवासी चेहरे को छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री बना सकती है. इसमें रेणुका सिंह का नाम सबसे आगे चल रहा है. माना जा रहा है कि बीजेपी आलाकमान किसी आदिवासी महिला को मुख्यमंत्री बनाकर 2024 के लिए आदिवासी सीटों पर निशाना साधना चाहती है. रेणुका सिंह को सीएम पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है, क्योंकि वह पीएम की टीम की मजबूत सदस्य मानी जाती हैं.

कौन हैं रेणुका सिंह?

रेणुका सिंह केंद्रीय राज्य मंत्री हैं. इस बार बीजेपी ने उन्हें विधानसभा चुनाव में उतारा था, उन्होंने भरतपुर सोनहत से विधानसभा चुनाव जीता था. रेणुका सिंह केंद्र में छत्तीसगढ़ से एकमात्र मंत्री हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत जनपद पंचायत चुनाव से की थी. 1999 में वह पहली बार जनपद पंचायत की सदस्य चुनी गईं। फिर 2000 में बीजेपी ने उन्हें रामानुजनगर मंडल का अध्यक्ष बनाया. वर्ष 2002 में वह समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष रहीं। 2003 में पार्टी ने टिकट दिया तो वह रामानुजनगर सीट से विधायक बन गईं। 2008 में वह फिर से विधायक बनीं और महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री रहीं। साल 2019 में वह सरगुजा सीट से सांसद बनीं और अब मोदी सरकार में केंद्रीय जनजातीय मामलों की राज्य मंत्री हैं।

सामान्य पृष्ठभूमि से जनजाति महिला।

Ø पार्टी की सामान्य कार्यकर्ता, मंडल अध्यक्ष जिला पंचायत सदस्य।

Ø तुलेश्वर सिंह जो कांग्रेस के बड़े मंत्री थे, अजीत जोगी के सबसे ताकतवर साथी थे – बहुत ही दबंग एवं आक्रामक राजनीति करते थे को 2003 में चुनाव में प्रेमनगर से हराकर विधायक बनीं।

Ø डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में पहली भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री बनीं।

Ø लगातार दूसरी बार 2008 में प्रेम नगर सामान्य सीट से विधायक चुनी गयीं।

Ø सरगुजा एवं उत्तर छत्तीसगढ़ विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष।

Ø ट्राइफेड के संचालक मंडल में सदस्य।

Ø 2015 लोकसभा चुनाव में लगभग 1.50 लाख मतों से विजयी।

Ø 2019 से भारत सरकार जनजाति कार्य राज्य मंत्री।

क्यों बन सकती है पहली आदिवासी महिला CM?

महिलाओं से जुड़ाव: छत्तीसगढ़ में महिलाओं के बीच रेणुका सिंह एक लोकप्रिय चेहरा हैं। खासकर आदिवासी बेल्ट में महिलाएं उनसे जुड़ाव महसूस करती हैं। इन महिलाओं में रेणुका सिंह को लेकर क्रेज है. चुनाव प्रचार के दौरान भी उनकी रैलियों में बड़ी संख्या में महिलाएं नजर आई थीं.

  • Ø आदिवासी महिला श्रीमती द्रोपदी मुर्मु देश की राष्ट्रपति बन चुकी हैं।

  • Ø आदिवासी महिला अनुसुइया उइके, द्रोपदी मुर्मु राज्यपाल बन चुकी हैं।

  • Ø 33% महिला आरक्षण सुनिश्चित करने वाली पार्टी क्या इस बार देश को प्रथम महिला आदिवासी मुख्यमंत्री देने जा रही है?

  • Ø महिला प्रतिनिधित्व एवं महिलाओं का जबरदस्त समर्थन पा कर सरकार बनाने वाली बीजेपी के लिए यह सुनहरा मौका है।

  • Ø रेणुका सिंह, जो वर्तमान में केन्द्रीय जनजाति राज्यमंत्री हैं, सरगुजा की सांसद एवं तीसरी बार विधायक बनीं हैं, छत्तीसगढ़ प्रदेश में कैबिनेट मंत्री भी रही हैं, को हर स्तर का प्रशासनिक एवं राजनैतिक अनुभव है। छत्तीसगढ़ के प्रथम महिला आदिवासी जनजाति मुख्यमंत्री बनने की सारी संभावनाएं एवं योग्यताएं हैं।

  • Ø देश की नारी शक्ति जिसने इतना बड़ा जनमत प्रदान किया है को सम्मानित करने का यह श्रेष्ठ अवसर होगा।

  • Ø 2047 तक देश को विकसित करने में नारी शक्ति का अहम योगदान होगा।

  • Ø प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली मुख्यालय से जो भावुक वादा किया है मोदी गारंटी दिया है उससे तो यही लगता है कि छत्तीसगढ़ में रेणुका सिंह को मुख्यमंत्री बनने की सबसे बेहतर संभावना है।

  • Ø सरगुजा क्षेत्र की सभी 14 विधान सभा सीटों पर विजय।

  • Ø सोनहत-भरतपुर जैसे कठिन क्षेत्र में विजय।

  • Ø जनजाति संवर्ग का अभूतपूर्व जबरदस्त समर्थन।

  • Ø महिला वर्ग का अभूतपूर्व समर्थन।

  • Ø सरगुजा क्षेत्र से मुख्यमंत्री की मांग सदियों से रही है। क्षेत्र की जनता के लिए अपने बीच से मुख्यमंत्री बनना अत्यंत उत्साहपूर्ण होगा। जिसका लाभ लोकसभा चुनाव में मिलेंगे।

  • Ø रेणुका सिंह जी के मुख्यमंत्री बनने से महिला एवं जनजाति दोनों वर्गों को उत्साहित, प्रेरित एवं संतुष्ट किया जा सकेगा।

केन्द्रीय राज्यमंत्री के तौर पर किए गए महत्वपूर्ण कार्यः-

 

Ø छत्तीसगढ़ के 12 जनजातियों को एस.टी संवर्ग में शामिल करना।

Ø यह कार्य पिछले 20-25 वर्षों से लंबित था।

Ø छत्तीसगढ़ के सभी जनजाति विकास खण्डों में एकलव्य आदर्श विद्यालयों की स्थापना। संचालन प्रारंभ एवं भवन की स्वीकृति कराना।

Ø अम्बिकापुर – नई दिल्ली ट्रेन का संचालन प्रारंभ करना यह मांग आजादी के बाद से ही लंबित था।

Ø अम्बिकापुर रेनुकूट एवं अम्बिकापुर बरवाडीह रेल परियोजना की पुनः स्वीकृति एवं कार्य प्रारंभ कराना।

Ø 50,000 करोड़ लागत से ऊर्जा कॉरिडोर को प्रारंभ करना।

Ø 24,000 करोड़ लागत से प्रधानमंत्री पीवीटीजी विकास मिशन की शुरुआत।

Ø आकांक्षी जिलों का भ्रमण एवं प्रधानमंत्री जी को तथ्यों के विश्लेषण के साथ प्रभावी प्रतिवेदन देना एवं सुझाव देना।

Ø शासन की विभिन्न योजनाओं हेतु मान. प्रधानमंत्री जी को नियमित सुझाव देना।

Ø गुजरात चुनाव में जनजाति क्षेत्रों में विशेष प्रयास एवं सफलता।

The mainstream media establishment doesn’t want us to survive, but you can help us continue running the show by making a voluntary contribution. Please pay an amount you are comfortable with; an amount you believe is the fair price for the content you have consumed to date.

happy to Help 9920654232@upi 

Related Stories

No stories found.
Buy Website Traffic
logo
The Public Press Journal
publicpressjournal.com