NCLAT ने Reliance Capital मामले में ऋणदाताओं को एक और बिडिंग राउंड की अनुमति दी

एनसीएलएटी ने यह आदेश विस्ट्रा आईटीसीएल इंडिया लिमिटेड (Vistra ITCL India) की याचिका पर दिया है. विस्ट्रा अनिल अंबानी (Anil Ambani) प्रवर्तित कंपनी के ऋणदाताओं में से है.
NCLAT allows lenders to have one more bidding round in Reliance Capital case
NCLAT allows lenders to have one more bidding round in Reliance Capital case02/03/2023

नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (National Company Law Appellate Tribunal) यानी  (NCLAT) एनसीएलएटी ने रिलायंस कैपिटल (Reliance Capital) के समाधान के मामले में ऋणदाताओं की नीलामी की एक और दौर की याचिका को स्वीकार कर लिया है. कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल फिलहाल दिवाला प्रक्रिया (Insolvency Process) से गुजर रही है. एनसीएलएटी (NCLAT) ने आदेश को खारिज करते हुए कहा कि ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) के पास ऊंची बोली के प्रयास करने का अधिकार है. अपीलीय न्यायाधिकरण ने सीओसी को चुनौती को जारी रखने और दो सप्ताह बाद बोलियां आमंत्रित करने की अनुमति दी है.

एनसीएलएटी ने यह आदेश विस्ट्रा आईटीसीएल इंडिया लिमिटेड (Vistra ITCL India) की याचिका पर दिया है. विस्ट्रा अनिल अंबानी (Anil Ambani) प्रवर्तित कंपनी के ऋणदाताओं में से है. याचिका में एनसीएलटी के उस आदेश को चुनौती दी गई थी जिसमें दिवालिया कंपनी के लिए और नीलामी पर रोक लगाई गई थी. रिलायंस कैपिटल के मामले में टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स ने 8,640 करोड़ रुपये की सबसे ऊंची बोली लगाई थी.

हालांकि, कंपनी की ऋणदाताओं की समिति ने दूसरी चुनौती चलाने का फैसला किया. उसके बाद हिंदुजा समूह की कंपनी इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग्स लिमिटेड (Indusind International Holdings Ltd) यानी आईआईएचएल (IIHL) ने संशोधित बोली जमा कराई.

टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स (Torrent Investments) ने एनसीएलटी की मुंबई पीठ के समक्ष इसे चुनौती दी. इससे पहले एनसीएलटी ने दो फरवरी को कहा कि वित्तीय बोली के लिए चुनौती व्यवस्था 21 दिसंबर, 2022 को पूरा हो गया है. इसके बाद टॉरेंट इन्वेस्टमेंट्स ने नौ जनवरी को नई याचिका दायर कर न्यायाधिकरण से ऋणदाताओं की नए सिरे से नीलामी की योजना पर रोक लगाने की अपील की. आईआईएचएल ने भी बाद में एक याचिका दायर कर एनसीएलटी के आदेश को चुनौती दी. आईआईएचएल ने एनसीएलटी के आदेश के खिलाफ अपीलीय न्यायाधिकरण में अपील की.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आपको बता दें कि रिलायंस कैपिटल जो कि दिवाला प्रक्रिया से गुजर रही है, उसपर कुल 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज है.

The mainstream media establishment doesn’t want us to survive, but you can help us continue running the show by making a voluntary contribution. Please pay an amount you are comfortable with; an amount you believe is the fair price for the content you have consumed to date.

happy to Help 9920654232@upi 

Related Stories

No stories found.
Buy Website Traffic
logo
The Public Press Journal
publicpressjournal.com