बृजभूषण के ड्राइवर-गार्ड समेत 15 कर्मचारियों से पूछताछ:लखनऊ और गोंडा के घरों पर पहुंची दिल्ली पुलिस, डेढ़ घंटे तक सवाल-जवाब किए

दिल्ली पुलिस सोमवार देर रात भारतीय कुश्ती संघ (WFI) के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के लखनऊ और गोंडा स्थित घरों पर पहुंची। पुलिस ने बृजभूषण के 15 कर्मचारियों से पूछताछ की। इनमें ड्राइवर, सुरक्षाकर्मी, माली और नौकर भी शामिल थे। दिल्ली से आई टीम में 5 पुलिसकर्मी थे।
Interrogation of 15 employees including Brijbhushan's driver-guard: Delhi Police reached the houses of Lucknow and Gonda, questioned for one and a half hours
Interrogation of 15 employees including Brijbhushan's driver-guard: Delhi Police reached the houses of Lucknow and Gonda, questioned for one and a half hours06/06/2023

लखनऊ में 3 कर्मचारियों से पूछताछ के बाद टीम​​​​​ ​गोंडा के बिश्नोहरपुर स्थित घर गई। यहां करीब डेढ़ घंटे तक 12 कर्मचारियों से सवाल-जवाब किए। उनका नाम-पता नोट किया। बृजभूषण की वर्किंग और व्यवहार को लेकर पूछताछ की। बयान दर्ज करने के बाद टीम रात 11:30 बजे दिल्ली रवाना हो गई।

बृजभूषण शरण सिंह ने बताया कि दिल्ली पुलिस ने हमसे कोई पूछताछ नहीं की। क्योंकि, पुलिस 2 बार पहले ही 5-6 घंटे दिल्ली में पूछताछ कर चुकी है। हमारे यहां काम कर रहे ड्राइवर-नौकर के बयान दर्ज किए हैं।

दिल्ली पुलिस के सवाल-जवाब
1. आपका क्या नाम है और आप कहां के रहने वाले हैं?
2. सांसद बृजभूषण शरण सिंह के यहां कब से काम कर रहे हैं?
3. सांसद को आप कैसे जानते हैं?

बृजभूषण केस से जुड़े 2 अपडेट...

साक्षी, विनेश, बजरंग नौकरी पर लौटे: साक्षी मलिक, बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट सोमवार को अपनी नौकरी पर लौट आए। तीनों रेलवे में नौकरी करते हैं। रेलवे पब्लिक रिलेशन के डायरेक्टर जनरल योगेश बवेजा ने भास्कर को बताया कि तीनों ने सोमवार को ड्यूटी जॉइन की है। साक्षी ने आंदोलन वापस लेने की खबरों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा- सत्याग्रह चलता रहेगा। उधर, विनेश और बजरंग पूनिया बोले कि अगर नौकरी आंदोलन में बाधा बनी तो उसे 10 सेकंड में छोड़ देंगे।

दावा- नाबालिग पहलवान आरोपों से पलटी: बताया जा रहा है कि यौन शोषण का आरोप लगाने वाली नाबालिग रेसलर अपने बयान से पलट गई है। दावे के मुताबिक, नाबालिग ने दिल्ली के कनॉट प्लेस पुलिस थाने में बयान दिए। इसके बाद उसे पटियाला हाउस कोर्ट ले जाया गया, जहां उसने बयान वापस ले लिया।

The mainstream media establishment doesn’t want us to survive, but you can help us continue running the show by making a voluntary contribution. Please pay an amount you are comfortable with; an amount you believe is the fair price for the content you have consumed to date.

happy to Help 9920654232@upi 

Related Stories

No stories found.
Buy Website Traffic
logo
The Public Press Journal
publicpressjournal.com