रोमियो जूलियट: 16 साल की उम्र में फ़िल्माया गया 'न्यूड सीन', 70 के होने पर किया केस

1968 की फ़िल्म 'रोमियो एंड जूलियट' में काम करने वाले कलाकारों ने 'न्यूड सीन' करवाने के आरोप में पैरामाउंट पिक्चर्स के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज कराया है. ये केस अमेरिका में दायर किया गया है.

Romeo Juliet: Filmed 'nude scene' at the age of 16, filed a case on being 70
Romeo Juliet: Filmed 'nude scene' at the age of 16, filed a case on being 70 Romeo Juliet: Filmed 'nude scene' at the age of 16, filed a case on being 70

इनका आरोप है कि फ़िल्म में शामिल एक न्यूड सीन को करवाने के लिए उन्हें यौन दुर्व्यवहार और यौन प्रताड़ना से गुजरना पड़ा.

पैरामाउंट फ़िल्म की इस मूवी का निर्देशन फ्रैंको जैफ्रिली ने किया था.

फ़िल्म के अभिनेता लियोनार्द व्हाइटनिंग और ओलिविया हसी ने जब इसमें काम किया था उस वक़्त उनकी उम्र 16 और 15 साल थी.

लियोनार्द व्हाइटनिंग और ओलिविया हसी की उम्र अब 70 साल के करीब है.

इन दोनों का कहना है कि जिस समय फ़िल्म की शूटिंग चल रही थी तब डायरेक्टर फ्रैंको जैफ्रिलीन ने उन्हें एक न्यूड सीन करने के लिए कहा.

जबकि उन्होंने पहले गारंटी दी थी कि उनसे ऐसे सीन नहीं करवाए जाएंगे. इन दोनों ने अब इसके लिए 50 करोड़ डॉलर का हर्जाना मांगा है.

मुकदमे की याचिका में कहा गया है कि दोनों ब्रिटिश एक्टर्स इससे काफ़ी भावनात्मक परेशानी में रहे. वो दशकों तक मानसिक परेशानी से जूझते रहे. फ़िल्म के प्रीमियम के बाद उन्होंने पाया कि उन्हें बहुत कम काम मिल रहा है.

हालांकि पैरामाउंट ने इस मुकदमे पर अभी अपनी ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

लियोनार्द व्हाइटनिंग और ओलिविया हसी ने बताया कि ज़ैफ्रिली का 2019 में निधन हो गया था.

उन्होंने कहा, "जैफ्रिली ने कहा था शूटिंग में हमें स्किन कलर के अंडरवियर पहनाए जाएं. लेकिन जिस सुबह शूटिंग शुरू हुई वो बॉडी मेकअप के साथ न्यूड सीन करने का अनुरोध करने लगे. उनका कहना था कि अगर ये वे सीन नहीं करेंगे तो फ़िल्म फ्लॉप हो जाएगी."

दोनों एक्टर्स ने कहा कि डायरेक्टर ने उन लोगों से कहा था कि कैमरे की पोजीशन ऐसी रखी जाएगी कि वह उनके शरीर के कुछ खास हिस्सों को न पकड़े. दोनों ने कहा, "हमें लगता है कि उस वक़्त हमारे पास इसे करने के अलावा और विकल्प नहीं था."

हालांकि फ़िल्म में व्हाइटनिंग के शरीर का पिछला हिस्सा और हसी के 'ब्रेस्ट' थोड़ी देर के लिए दिखे.

याचिका के मुताबिक़, "दोनों एक्टर्स ने जैफ्रिली पर मुख्य रूप से 'धोखा' देने का आरोप लगाया है. लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि पैरामाउंट पिक्चर्स ये बात जानता था या उसे ये पता होना चाहिए था कि वादियों (दोनों एक्टर्स) के नग्न शरीर को चुपके और गैरकानूनी तरीके से फ़िल्माया गया."

उनके इस दावे के आधार पर ही वकीलों ने कहा है कि फ़िल्म के दृश्य ने अभद्रता और बच्चों के शोषण के ख़िलाफ़ बने कैलिफोर्निया और संघीय क़ानूनों का उल्लंघन किया है.

लियोनार्द व्हाइटनिंग और ओलिविया हसी के बिज़नेस मैनेजर टोनी मैरिनोजी कहा, "पैरामाउंट पिक्चर्स स्टूडियों ने दोनों को धोखा दिया."

दोनों ने इस डर से कानूनी कार्रवाई नहीं की कि इससे उनके करियर को नुकसान पहुंचेगा. लोग उन पर विश्वास भी नहीं करेंगे.

मैरिनोजी ने कहा, "वे अपनी कहानी बताएं इसका कोई रास्ता नहीं था. ये भी निश्चित नहीं था कि लोग उनकी कहानी सुनते ही."

उन्होंने कहा, "आज हम 'मी टू' जैसा आंदोलन और इस तरह की चीजों के विरोध के दूसरे मंच देख रहे हैं लेकिन उस समय इस तरह की शिकायत का कोई मंच नहीं था. यही वजह है कि उन्हें इस चीज से जूझते हुए इतने लंबे समय तक रहना पड़ा."

दोनों के वकील सोलोमन ग्रेसन का कहना है, "नाबालिग की नग्न तस्वीरें लेना ग़ैरक़ानूनी है. इसे दिखाया नहीं जाना चाहिए."

उन्होंने कहा, "1960 के दशक में दोनों बहुत छोटे थे. इन बच्चों को समझ नहीं आया होगा कि उनके साथ क्या हो रहा है. अचानक वे मशहूर हो गए. उन्होंने कल्पना भी नहीं की होगी कि बचपन में उनके साथ कुछ ऐसा हुआ था और उन्हें समझ नहीं आया था कि क्या किया जाए."

इमेज स्रोत,GETTY IMAGES

इमेज कैप्शन,

फिल्म 'रोमियो जूलियट' का एक दृश्य

हसी ने न्यूड सीन का बचाव किया था

हसी ने 2018 में 'वेराइटी' मैगजीन को दिए एक इंटव्यू में न्यूड सीन का बचाव किया था.

उस वक़्त उन्होंने कहा था, "मेरी उम्र के किसी शख़्स ने इससे पहले ऐसा कभी नहीं किया था. जैफ्रिली ने सुरुचिपूर्ण तरीके से इस सीन को फ़िल्माया था. फ़िल्म के लिए ये ज़रूरी था."

उसी साल फॉक्स न्यूज़ के साथ एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, "अमेरिका में इस तरह सीन का 'टैबू' था. लेकिन यूरोपीय फिल्मों में 'न्यूडिटी' आम थी."

हसी ने कहा था, "ये कोई बड़ी समस्या नहीं थी. लियोनार्दो को इसमें (सीन करने के दौरान) कोई संकोच नहीं हुआ था. सीन फ़िल्माए जाने के दौरान मैं तो ये बिल्कुल भूल ही गई थी कि लियोनार्दो ने कुछ पहना भी है."

उस दौरान ये फ़िल्म काफी हिट रही थी. शेक्सपियर की कृतियों को समझाने के लिए कई पीढ़ियों को ये फ़िल्म दिखाई जाती रही.

इसे चार ऑस्कर पुरस्कारों के नॉमिनेशन मिले थे. इनमें बेस्ट डायरेक्टर और बेस्ट पिक्चर के अवॉर्ड के लिए नॉमिनेशन भी शामिल थे. लेकिन फ़िल्म ने दो ऑस्कर जीते, बेस्ट सिनेमेटोग्राफ़ी और बेस्ट कॉस्टयूम डिजाइन के.

The mainstream media establishment doesn’t want us to survive, but you can help us continue running the show by making a voluntary contribution. Please pay an amount you are comfortable with; an amount you believe is the fair price for the content you have consumed to date.

happy to Help 9920654232@upi 

Related Stories

No stories found.
Buy Website Traffic
logo
The Public Press Journal
publicpressjournal.com